>एक्यूट फ़्लेसिड मायलाइटिस

मेरु रज्जु में अचानक लकवा आरंभ होने को एक्यूट फ़्लेसिड मायलाइटिस (AFM) कहते हैं।

>एमायोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस

ALS, जिसे लू गैरिग रोग भी कहते हैं, तंत्रिकाओं का एक वृद्धिशील रोग है।

>धमनियों और शिराओं की विकृतियां

परिसंचरण तंत्र के दोष जिन्हें भ्रूण के विकास के दौरान उत्पन्न हुआ माना जाता है।

>ब्रेकियल प्लेक्सस क्षति

ब्रेकियल प्लेक्सस क्षतियां तंत्रों के किसी नेटवर्क को आघात पहुंचने के कारण होती हैं।

>मस्तिष्क क्षति

मस्तिष्क क्षति या दिमाग़ी चोटें महत्वपूर्ण कार्यक्षमताओं जैसे विचार, बोध, और वाणी को प्रभावित कर सकती हैं।

>सेरेब्रल पाल्सी

CP मस्तिष्क के भागों के असामान्य विकास या उन्हें नुकसान होने के कारण होती है।

>फ़्रेडरीच एटैक्सिया

एक वंशानुगत रोग जिसके कारण तंत्रिका तंत्र को नुकसान होता है।

>गीलन-बार सिंड्रो

शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र द्वारा परिधीय तंत्रिका तंत्र पर हमला करने पर होता है।

>मस्कुलर डिस्ट्रॉफी

कंकाल की मांस-पेशियों का क्षय MD का अभिलक्षण है।

>न्यूरोफ़ाइब्रोमैटोसिस

तंत्रिका तंत्र का एक वृद्धिशील विकार जो तंत्रिकाओं में ट्यूमर कर देता है।

>पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम

संचलन की विशेषता का नियंत्रण करने वाली तंत्रिकाओं पर हमला करने वाले एक वायरस के कारण पोलियो होता है।

>स्पाइना बाइफ़िडा

तंत्रिका नाल का एक दोष जिसके कारण मेरु स्तंभ पूरी तरह बंद नहीं हो पाता है। परिसंचरण तंत्र के दोष जिन्हें भ्रूण के विकास के दौरान उत्पन्न हुआ माना जाता है।

>ब्रेकियल प्लेक्सस क्षति

ब्रेकियल प्लेक्सस क्षतियां तंत्रों के किसी नेटवर्क को आघात पहुंचने के कारण होती हैं।

>मस्तिष्क क्षति

मस्तिष्क क्षति या दिमाग़ी चोटें महत्वपूर्ण कार्यक्षमताओं जैसे विचार, बोध, और वाणी को प्रभावित कर सकती हैं।

>>स्पाइना बाइफ़िडा

तंत्रिका नाल का एक दोष जिसके कारण मेरु स्तंभ पूरी तरह बंद नहीं हो पाता है।

>मेरु रज्जु की चोट/क्षति

इसमें मेरु नाल की अस्थिमय संरक्षण के अंदर मौजूद तंत्रिकाओं को नुकसान होता है।

>स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉफी

तंत्रिकाओं व मांस-पेशियों का एक रोग जो तंत्रिका कोशिकाओं को और ऐच्छिक मांस-पेशियों के नियंत्रण को प्रभावित करता है।

>स्पाइनल ट्यूमर

ट्यूमर, ऊतकों की असामान्य वृद्धि होते हैं जो उनकी कार्यक्षमता को कमज़ोर कर सकते हैं।

>स्ट्रोक (मस्तिष्काघात)

मस्तिष्क की रक्तापूर्ति बाधित हो जाती है या मस्तिष्क में कोई रक्त वाहिका फट जाती है।

>सिरिंगोमायलिया और टेदर्ड कॉर्ड

सिरिंगोमायलिया और टेदर्ड कॉर्ड, SCI के महीनों से दशकों बाद हो सकते हैं।

>ट्रांसवर्स मायलाइटिस

यह मेरु रज्जु की तंत्रिकाओं और शेष शरीर के बीच के संचार को बाधित करता है।